उत्तराखंड की प्रमुख नदियाँ से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

0 328

उत्तराखंड की प्रमुख नदियाँ से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

Major Rivers in Uttarakhand State – सभी कॉम्पीटिशन एग्जाम के समान्य ज्ञान के सेक्शन के अन्दर सभी राज्य की प्रमुख नदियाँ से सम्बंधित से प्रश्न ही पूछे जाते है और यदि कोई भी उत्तराखंड पुलिस या कोई राज्य लेवल का एग्जाम है उसके अन्दर सबसे ज्यादा राज्य से सम्बंधित सामान्य ज्ञान के प्रश्न पूछते है जैसेः राज्य की जनसँख्या ,राजभाषा ,राजधानी आदि से सबंधित बहुत से प्रश्न बनते है इसलिए कोई भी उमीदवार जो किसी कॉम्पीटिशन एग्जाम कि तैयारी कर रहा है उसे सभी राज्य समान्य ज्ञान से सम्बंधित से रिलेटेड जानकारी होनी चाहिए तभी वाह समान्य ज्ञान के सेक्शन को अच्छी तरह से और जल्दी कर सकता है तो आज हम उत्तराखंड की प्रमुख नदियाँ से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण  जानकारी देंगे  जो अक्सर एग्जाम में पूछे जाते है|

उत्तराखंड की प्रमुख नदियाँ (Major Rivers of Uttarakhand)

इस प्रदेश की नदियाँ भारतीय संस्कृति में सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्थान रखती हैं। उत्तराखण्ड अनेक नदियों का उद्गम स्थल है। यहाँ की नदियाँ सिंचाई व जल विद्युत उत्पादन का प्रमुख संसाधन है। इन नदियों के किनारे अनेक धार्मिक व सांस्कृतिक केन्द्र स्थापित हैं। हिन्दुओं की पवित्र नदी गंगा का उद्गम स्थल मुख्य हिमालय की दक्षिणी श्रेणियाँ हैं। गंगा का प्रारम्भ अलकनन्दा व भागीरथी नदियों से होता है। अलकनन्दा की सहायक नदी धौली, विष्णु गंगा तथा मंदाकिनी है। गंगा नदी, भागीरथी के रूप में गौमुख स्थान से 25 कि॰मी॰ लम्बे गंगोत्री हिमनद से निकलती है। भागीरथी व अलकनन्दा देव प्रयाग संगम करती है जिसके पश्चात वह गंगा के रूप में पहचानी जाती है। यमुना नदी का उद्गम क्षेत्र बन्दरपूँछ के पश्चिमी यमनोत्री हिमनद से है। इस नदी में होन्स, गिरी व आसन मुख्य सहायक हैं। राम गंगा का उद्गम स्थल तकलाकोट के उत्तर पश्चिम में माकचा चुंग हिमनद में मिल जाती है। सोंग नदी देहरादून के दक्षिण पूर्वी भाग में बहती हुई वीरभद्र के पास गंगा नदी में मिल जाती है। इनके अलावा राज्य में काली, रामगंगा, कोसी, गोमती, टोंस, धौली गंगा, गौरीगंगा, पिंडर नयार (पूर्व) पिंडर नयार (पश्चिम) आदि प्रमुख नदियाँ हैं|

 यमुना तंत्र

  • यमुना नदी उत्तरकाशी के बंदरपूंछ पर्वत पर स्थित यमुनोत्री कांठा नमक स्थान से निकालाई है ,यमुना की राज्य में लम्बाई 136 किमी. है,  यमुना की प्रमुख सहायक नदियाँ निम्नलिखित है

टोंस

  • यह यमुना की सबसे प्रमुख सहायक नदी है जो उत्तरकाशी में स्थित स्वर्गारोहाणी हिमनद से निकलने वाली सूपिन नदी व हिमांचल प्रदेश से आने वाली रूपिन नदी से मिलकर बनती है टोंस नदी को तमसा नदी के नाम से भी जाना जाता है , टोंस नदी कालसी में यमुना से मिलती है
  • इसके अलावा यमुना की कुछ अन्य सहायक नदियां ऋषि गंगा , हनुमान गंगा , भाद्रिगाड , कमलगाड़ ,गिरीआदि है

 गंगा तंत्र

  • गंगा नदी को गंगा के नाम से देवप्रयाग से जाना जाता है जहाँ अलकनंदा व भागीरथी नदियाँ मिलकर गंगा नदी का निर्माण करती है राज्य में देवप्रयाग के बाद गंगा की कुल लम्बाई 96 किमी है
    गंगा की प्रमुख सहायक नदियाँ निम्नलिखित है

भागीरथी

भागीरथी नदी उत्तरकाशी में गोमुख नामक स्थान से निकलती है
भागीरथी की प्रमुख सहायक नदियाँ रुद्रगंगा , जान्हवी , सियागंगा, भिलंगना, मिलुन गंगा ,  केदार गंगा आदि है
पुरानी टिहरी (गणेश प्रयाग) में भागीरथी से भिलंगना  नदी मिलती है जो खतलिंग ग्लेशियर से निकलती है ,देवप्रयाग में भागीरथी से अलकनंदा नदी मिलाती है इसके बाद यह गंगा कहलाती है गोमुख से देवप्रयाग तक भागीरथी की लम्बाई 205 किमी है

अलकनंदा

  • अलकनंदा नदी चमोली के सतोपंथ ग्लेशियर से निकलती है इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ सरस्वती , लक्ष्मण गंगा , विष्णु गंगा , पाताल गंगा , नंदाकिनी , पिंडर , मन्दाकिनी , कंचन गंगा , क्षीर गंगा , सोनधारा आदि है
    अलकनंदा से केशव प्रयाग (चमोली ) में सरस्वती , विष्णु प्रयाग (चमोली) में विष्णु गंगा , नंदप्रयाग (चमोली) मेंनंदाकिनी , कर्णप्रयाग (चमोली) में पिंडर , रुद्रप्रयाग में मन्दाकिनी तथा देवप्रयाग में भागीरथी नदी मिलती है

नयार

  • गंगा में नयार नदी पौड़ी के फूलचट्टी नमक स्थान पर मिलती है , नयार नदी पूर्वी व पश्चिमी नयार के मिलाने से बनती है

काली (शारदा) तंत्र

  • काली नदी पिथोरागढ़ जनपद में स्थित लिपुलेख के पास में स्थित कालापानी नामक स्थान से निकलती है , काली की प्रमुख सहायक नदियाँ पूर्वी धौलीगंगा , गोरी गंगा , सरयू , लोहावती , लधिया , कुठीयान्गटी आदि है
    काली नदी से खेला नामक स्थान पर पूर्वी धौलीगंगा ,  जौलजीवी में गोरी जो मिलम हिमनद से निकलती है ,पंचेश्वर में सरयू तथा  चम्पावत में लाधिया नदी मिलती है
    सरयू नदी बागेश्वर के सरमूल नामक स्थान से निकलती है इसकी सहायक नदी गोमती ,  पनार , पूर्वी रामगंगा आदि है

 पश्चिमी रामगंगा नदी

  • पश्चिमी रामगंगा नदी दूधातोली श्रेणी से निकलती है

 कोसी नदी

  • कोसी नदी कौसानी की पहाड़ियों से निकलती है कुमाऊं में इसकी घाटी को धान का कटोरा कहा जाता है

 दाबका नदी

  • यह नैनीताल के गरमपानी नामक स्थान से निकलती है

 गौला नदी

  • यह नैनीताल के पहाड़ पानी  नामक स्थान से निकलती है|

उत्तराखंड में नदियों के संगम

  • विष्णु प्रयाग (चमोली ) – अलकनंदा व विष्णु गंगा
  • नन्द प्रयाग (चमोली) – अलकनंदा व नंदाकिनी
  • कर्ण प्रयाग (चमोली) – अलकनंदा व पिंडर
  • रूद्र प्रयाग – अलकनंदा व मन्दाकिनी
  • देव प्रयाग (टिहरी गढ़वाल) – अलकनंदा व भागीरथी
  • गणेश प्रयाग (टिहरी गढ़वाल) – भागीरथी व भिलंगना
  • केशव प्रयाग (चमोली ) – अलकनंदा व सरस्वती
  • ऋषिकेश (देहरादून) – गंगा व चंद्रभागा
  • जौलजीवी (पिथोरागढ़) – काली व गोरी
  • कालसी (देहरादून) – यमुना व टोंस
  • गंगोत्री (उत्तरकाशी)– भागीरथी व केदार गंगा
  • बागेश्वर – सरयू व गोमती

नदी किनारे बसे नगर

  • हरिद्वार – गंगा
  • श्रीनगर (पौड़ी) – अलकनंदा
  • केदारनाथ (रूद्र प्रयाग) – मन्दाकिनी
  • कौसानी (बागेश्वर) – कोसी
  • गोपेश्वर (चमोली) -अलकनंदा
  • जोशीमठ (चमोली) – अलकनंदा
  • उत्तरकाशी – भागीरथी
  • टनकपुर (चम्पावत) – काली

हमने इस पोस्ट में list of उत्तराखंड नदियां उत्तराखंड की सबसे बड़ी नदी उत्तराखंड की सबसे लंबी नदी कौन सी है उत्तराखंड की नदियों का मानचित्र उत्तराखंड नदी तंत्र उत्तराखंड नदियों उत्तराखंड में नदियों के संगम उत्तराखंड की प्रमुख नदियों के नाम Pdf uttarakhand rivers map state river of uttarakhand uttarakhand river map pdf uttarakhand rivers and lakes how many river in uttarakhand alakananda river uttarakhand dams of uttarakhand list of rivers of uttarakhand in hindi से संबंधित  जानकारी दी है तो इन्हें ध्यानपूर्वक पढ़ें. अगर इनके बारे में आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके पूछो और अगर आपको यह  जानकारी  फायदेमंद लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें.

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.